ताज़ा खबर
OtherPoliticsTop 10ताज़ा खबरभारतराज्य

महाराष्‍ट्र में कोरोना का कोहराम!

कई जिलों में लॉकडाउन लगाया जाएगा

समाचार प्रहरी, मुंबई

मुंबई के साथ ही पुणे, नागपुर और अमरावती में कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। हालात ख़राब होते देख स्थानीय प्रशासन ने लॉकडाउन घोषित करने का फैसला किया है। बता दें कि राज्य में अनलॉक के फैसले के बाद अब पहला लॉकडाउन लगाया जा रहा है। अमरावती, पुणे समेत मुंबई में भी लॉकडाउन करने का फैसला किया गया है।

मुंबई महानगर पालिका भी कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए होटल, बार, रेस्टोरेंट्स और समारोह स्थलों पर कड़ी कार्रवाई कर रही है। नियमों की अनदेखी होने पर फाइन वसूला रहा है। कई जगहों पर सील ठोका जा रहा है। बीएमसी ने फाइन के जरिए पिछले 24 घंटे में एक लाख रुपए का जुर्माना वसूला है, जबकि माहिम में एक होटल सील कर दिया गया।

पुणे के विभागीय आयुक्त सौरभ रावत ने बताया कि जिले के सभी स्कूल, कॉलेज और कोचिंग क्लासेस 28 फरवरी तक बंद रखने का फैसला लिया गया है। केवल प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए ही 50 फ़ीसदी अटेंडेंस होगी। प्राइवेट और सरकारी सभी कार्यक्रमों और शादियों में भी 100 लोगों को मंजूरी दी गई है। इसके अलावा आपातकालीन सर्विसेज को छोड़ते हुए बाकी सभी सेवाएं रात 11 से सुबह 6:00 बजे तक बंद रहेगी।
विदर्भ रीजन के अमरावती में एक सप्ताह के लिए लॉकडाउन लगा दिया गया है। यह लॉकडाउन सोमवार की शाम 8 बजे से अमरावती शहर और अचलपुर शहर में लागू किया जाएगा। विदर्भ रीजन के लगभग सभी जिलों में कड़े प्रतिबंध लगाए गए हैं। शहर को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। इससे पहले 12 हॉटस्पॉट्स की पहचान की गई थी। 14 दिनों तक के लिए लोगों की आवाजाही पर भी प्रतिबंध लगाए गए थे, लेकिन अब पूरे शहर में ही लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई है।
नागपुर में भी नागरिकों के आग्रह किया जा रहा है कि बेहद जरूरी होने पर ही वे घरों से बाहर निकलें। कोरोना के नियमों का उल्लंघन करने वालों से प्रशासन सख्ती से निपट रहा है। प्रतिबंधात्मक निर्देशों का पालन नहीं करने वालों से अब तक एक करोड़ रुपए का दंड वसूला जा चुका है। कम्युनिटी हॉल, रिसॉर्ट, होटल, लॉज के लिए कई पाबंदियां लगाई गई हैं।

Related posts

ईडी के समक्ष पेश हुए खडसे, पूर्व भाजपा नेता के दामाद अरेस्ट

Prem Chand

3269 करोड़ रुपये की बैंक धोखाधड़ी, सीए अरेस्ट

Vinay

पार्थ पवार राजनीति में ‘नये’ हैं : छगन भुजबल

samacharprahari

ओबीसी आरक्षण को लेकर राज्यों के पाले में गेंद

samacharprahari

दिशा के बाद शक्ति से महिला उत्पीड़न को देंगे मात

samacharprahari

इस बार भी राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को मान्यता नहीं मिली

samacharprahari