ताज़ा खबर
OtherTop 10ताज़ा खबरदुनियाबिज़नेसभारतराज्य

2030 तक दुनिया में एक अरब से अधिक लोग हो सकते हैं अत्यंत ग़रीब

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) के एक नए अध्ययन में सामने आया है कि कोविड-19 महामारी के गंभीर दीर्घकालिक परिणामों के चलते वर्ष 2030 तक घोर गरीबी रेखा में 20 करोड़ 70 लाख लोग शामिल होंगे। दुनिया भर में बेहद गरीब (Extreme poverty) लोगों की संख्या बढ़ कर एक अरब के पार हो जाएगी।

अध्ययन में कोविड-19 महामारी से उबरने के विभिन्न परिदृश्यों के कारण सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) पर पड़ने वाले असर और महामारी की वजह से अगले दशक तक पड़ने वाले बहुआयामी प्रभावों का आकलन किया गया है। यह अध्ययन यूएनडीपी और डेनवर विश्वविद्यालय में ‘पारडी सेंटर फॉर इंटरनेशनल फ्यूचर्स’ के बीच लंबे समय से चली आ रही साझेदारी का हिस्सा है।

अध्ययन के मुताबिक, ‘‘कोविड-19 महामारी के गंभीर दीर्घकालिक परिणामों के चलते वर्ष 2030 तक 20 करोड़ 70 लाख और लोग घोर गरीबी की ओर जा सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो दुनिया भर में बेहद गरीब लोगों की संख्या एक अरब के पार हो जाएगी।”

वर्तमान मृत्यु दर और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के हालिया वृद्धि दर अनुमान के आधार पर ‘बेसलाइन कोविड’ परिदृश्य यह होगा कि महामारी के पहले दुनिया जिस विकास पथ पर थी, उसकी तुलना में चार करोड़ 40 लाख अतिरिक्त लोग 2030 तक घोर गरीबी की चपेट में आ जाएंगे।

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि ‘हाई डैमेज’ परिदृश्य के तहत कोविड-19 के चलते वर्ष 2030 तक 20 करोड़ 70 लाख और लोग घोर गरीबी की ओर जा सकते हैं। यूएनडीपी के प्रशासक अचिम स्टीनर ने कहा कि नया गरीबी शोध यह दिखा है कि इस वक्त नेता जो विकल्प चुनेंगे, वे दुनिया को अलग-अलग दिशाओं में ले जा सकते हैं।

Related posts

मुंबई में निर्माणाधीन इमारत की लिफ्ट गिरी, चार मजदूरों की मौत

Prem Chand

रिजर्व बैंक से PPBL को 15 दिन की मोहलत

Prem Chand

कृषि कर्ज माफ करने की योजना नहींः सरकार

samacharprahari

सोशल मीडिया, यूट्यूब पर स्टॉक टिप्स देने वालों पर सख्त होगा SEBI

Prem Chand

डीआरडीओ ने किया पिनाका रॉकेट का सफल परीक्षण

samacharprahari

एयर इंडिया की घर वापसी!

samacharprahari