ताज़ा खबर
Otherताज़ा खबरबिज़नेसभारत

अधिकांश अर्थव्यवस्थाओं में सुधार की उम्मीद धीमी: मूडीज

मुंबई। मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कोविड-19 के कारण साख में आ रही गिरावट अल्पकालिक होगी, लेकिन गतिविधियों के मामले में अधिकांश अर्थव्यवस्थाएं वर्ष 2022 तक महामारी से पहले के स्तर पर नहीं पहुंच सकेंगी। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने पिछले साल 11 मार्च को कोविड-19 को महामारी घोषित किया था। इसके बाद से पूरे साल के दौरान महामारी ने वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं में व्यवधान डाला है। इसके साथ ही ऋण में गिरावट और भुगतान में चूक में तेजी आई है।
मूडीज ने कोरोना वायरस पर एक वैश्विक रिपोर्ट में कहा, ‘कोविड​​-19 से उत्पन्न होने वाली ऋण साख चुनौतियां काफी हद तक हैं, लेकिन इसके अल्पकालिक रहने की संभावना है। जोखिम उन क्षेत्रों के लिए अधिक है, जिनकी सामान्य गतिविधियों पर भी पाबंदियां लगी हुई हैं।’ मूडीज ने कहा किसाल 2022 तक अधिकांश अर्थव्यवस्थाएं महामारी से पहले की गतिविधि के स्तर पर वापस नहीं आ पाएंगी। महामारी के नरम होने के बाद नीतिगत कदमों से आर्थिक गतिविधियों और वित्तीय बाजारों का समर्थन जारी रहेगा। मूडीज को उम्मीद है कि टीकाकरण में वृद्धि होने से इस वर्ष महामारी की व्यापकता और संक्रमण की संख्या धीरे-धीरे कम होगी। यह सरकारों को धीरे-धीरे लॉकडाउन संबंधी उपायों को कम करने की सुविधा देगा।

Related posts

सरकार बताए, फॉक्सकॉन प्रोजेक्ट गुजरात में कैसे गया?

samacharprahari

कोविड काल में कुरियर और डाक से मादक पदार्थ तस्करी के मामलों में हुई वृद्धि: रिपोर्ट

samacharprahari

कैग ने वित्त मंत्रालय से ऑडिट का ब्योरा मांगा

samacharprahari

पत्नी और बेटी पर एसिड अटैक

Prem Chand

खिलाड़ियों को आईपीएल के बजाय राष्ट्र को प्राथमिकता देनी चाहिए : कपिल

samacharprahari

मजदूर संघ के हमले में 19 पुलिसकर्मी घायल, 27 गिरफ्तार

Prem Chand