ताज़ा खबर
OtherPoliticsTop 10टेकताज़ा खबरभारतराज्य

राष्ट्रीय सुरक्षा पर बड़ा खतरा! एनआईसी पर साइबर अटैक

  • राष्ट्रीय सुरक्षा पर बड़ा खतरा! एनआईसी पर साइबर अटैक
    हैकरों ने उड़ाई संवेदनशील जानकारियां

नई दिल्ली। भारत की सबसे बड़ी डाटा एजेंसी राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (नेशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर यानी एनआईसी) पर साइबर हमले की खबर सामने आ रही है। इस हमले को लेकर दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। माना जा रहा है कि इस साइबर हमले के माध्यम से एनआईसी के कई कम्प्यूटरों को निशाना बनाया गया और संवेदनशील जानकारियों को उड़ा लिया गया।

राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी जानकारियों में लगी सेंध!
नेशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर में प्रधानमंत्री, एनएसए समेत राष्ट्रीय हित से जुड़ी जानकारियां होती हैं। इसके अलावा एनआईसी के डाटा बेस में राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी जानकारियों के साथ भारत के नागरिकों, वीवीआईपी लोगों की जानकारियां भी मौजूद रहती हैं। ऐसे में इस साइबर हमले को बेहद खतरनाक माना जा रहा है। जानकारी के मुताबिक ये साइबर अटैक बेंगलुरु बेस्ड एक फर्म की तरफ से किया गया है, जिसके तार अमेरिका से जुड़ रहे हैं।

ई-मेल के माध्यम से हुआ हमला!
दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को मिली जानकारी के मुताबिक एनआईसी के सिस्टम्स पर ई-मेल के माध्यम से मालवेयर भेजा गया। इसमें एक लिंक पर क्लिक करते ही सारी जानकारियां गायब हो गई, जिसके बाद दिल्ली पुलिस को सूचना दी गई। जानकारी सामने आते ही दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने कमान संभाल लिया और मामले की जांच शुरू कर दी।

बेंगलुरु की कंपनी का हाथ, अमेरिकी लिंक मिला?
एनआईसी के कर्मचारियों की शिकायत पर जब मेल की जांच की गई, तो उसका लिंक बेंगलुरु की कंपनी से जुड़ा पाया गया। पुलिस की जांच में इस कंपनी का आईपी एड्रेस ट्रेस हुआ है। ये कंपनी अमेरिका बेस्ड कंपनी से जुड़ी है।

महाराष्ट्र का डाटा सेंटर सेफ है

महाराष्ट्र के पुणे में सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट यूनिट के हेड डॉ एस. पी. कुलश्रेष्ठ ने कहा कि साइबर हमले में राज्य सरकार का सभी डाटा सुरक्षित है। साइबर हमले का कोई असर नहीं हुआ है। हमारे सॉफ्टवेयर इंजीनियर व रिसर्चर सतर्क हैं।

 

 

 

Related posts

मनी लांड्रिंग केस: देशमुख की ईडी हिरासत तीन दिन बढ़ी

samacharprahari

इन्फ्रास्ट्रक्चर सुधारों के लिए गति शक्ति मास्टर योजना हैः पटनायक

samacharprahari

आईपीओ न मिलने पर अब चार दिन में मिलेगी रकम

samacharprahari

ड्रोन से पारेषण लाइन और पारेषण टावरों का निरीक्षण

samacharprahari

‘घर के गहने’ बेचने के आरोप गलत, विनिवेश की स्पष्ट नीति बनाई हैः सीतारमण

samacharprahari

घट रही है डेयर टू ड्रीम योजना में यंग इनोवेटर्स भागीदारी

samacharprahari