ताज़ा खबर
PoliticsTop 10ताज़ा खबरराज्य

मतदाताओं को हल्के में लेने की भूल न करें : पवार

मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि किसी भी राजनीतिक दलों को अपने मतदाताओं को हल्के में लेने की भूल नहीं करनी चाहिए। सत्ताधारी दलों के बारे में मतदाताओं ने जब सोच लिया कि नेताओं में अहंकार की बू आ रही है, तो वे अहंकारी लोगों को सबक सिखा कर ही मानते हैं।  राकांपा प्रमुख पवार ने कहा कि महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे नीत सत्तारूढ़ महा विकास आघाड़ी के सहयोगियों- शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस में मतभेदों की खबरों में ‘‘रत्ती भर भी सच्चाई” नहीं है।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के पिछले साल के विधानसभा चुनाव के दौरान ‘मी पुन्हा येईन’ (मैं दोबारा आउंगा) राग की आलोचना करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री नेएक साक्षात्कार में यह बातें कहीं। राज्य में पिछले विधानसभा चुनावों में भाजपा की हार को लेकर पूछे गए सवाल पर पवार ने कहा, “लोकतंत्र में, आप यह नहीं सोच सकते कि आप हमेशा के लिए सत्ता में रहेंगे। मतदाता इस बात को बर्दाश्त नहीं करेंगे कि उन्हें महत्व नहीं दिया जा रहा। मजबूत जनाधार रखने वाले इंदिरा गांधी और अटल बिहार वाजपेयी जैसे शक्तिशाली नेता भी हार गए थे।”

पवार ने कहा, “इसका मतलब है कि लोकतांत्रिक अधिकारों के लिहाज से, आम आदमी नेताओं से ज्यादा बुद्धिमान है। अगर हम नेता सीमा पार करते हैं तो वे हमें सबक सिखाएंगे। इसलिए लोगों को यह रुख पसंद नहीं आया कि, ‘हम सत्ता में लौटेंगे।” पवार ने कहा, “किसी भी नेता को लोगों को हल्के में नहीं लेना चाहिए। किसी को यह रुख नहीं अपनाना चाहिए कि वह सत्ता में लौटेगा। लोगों को लगता है कि इस रुख से अहंकार की बू आ रही है और इसलिए उनमें यह विचार मजबूत हुआ कि उन्हें सबक सिखाना चाहिए।”

पूर्व केंद्रीय मंत्री पवार ने कहा, “महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन एक दुर्घटना नहीं थी। महाराष्ट्र के लोगों ने राष्ट्रीय चुनाव के दौरान देश में प्रबल होती भावनाओं के अनुरूप मतदान किया। लेकिन विधानसभा चुनाव के दौरान मिजाज बदल गया। भले ही भाजपा ने लोकसभा चुनावों में अच्छा प्रदर्शन किया, लेकिन वह विभिन्न राज्यों के विधानसभा चुनाव में बुरी तरह विफल हुई। यहां तक कि महाराष्ट्र के लोगों ने भी परिवर्तन के लिए मतदान किया।”

राज्य में लॉकडाउन को लेकर मुख्यमंत्री ठाकरे के साथ उनके कथित मतभेद पर पूछे गए प्रश्न के जवाब में पवार ने कहा, “बिलकुल भी नहीं। क्या मतभेद? किस लिए? लॉकडाउन के पूरे समय, मेरी मुख्यमंत्री के साथ बेहतरीन बातचीत हुई और यह आगे भी जारी रहेगी।’’

Related posts

उत्तराखंड में नंदा देवी ग्लेशियर टूटा, 150 मजदूर लापता

Prem Chand

साल 2022-23 में बीजेपी को 70 प्रतिशत से अधिक दान मिला: एडीआर

samacharprahari

केंद्र सरकार के विभिन्न विभागों में 8.72 लाख पद रिक्त

samacharprahari

सरकार लेगी 7.24 लाख करोड़ रुपये कर्ज

Prem Chand

ऑफलाइन रिटेलर्स को सक्षम बनाने में जुटा गोदरेज

samacharprahari

आरटीओ चेकपोस्ट बंद करने की मांग

Prem Chand