ताज़ा खबर
OtherTop 10टेकताज़ा खबरभारतराज्यलाइफस्टाइल

चीन से साइबर हमले बढ़े

पांच दिनों में 40 हजार से अधिक मामले

मुंबई। चीन के हैकरों ने भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संरचना और बैकिंग सेक्टर पर पिछले पांच दिनों में 40 हजार से अधिक साइबर हमले किए। यह जानकारी मंगलवार को महाराष्ट्र पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी।

साइबर सुरक्षा ऑडिट कराएं
राज्य पुलिस की साइबर शाखा ‘महाराष्ट्र साइबर’ के अधिकारियों ने बताया कि इंटरनेट का उपयोग करने वाले लोगों को इस तरह के हमले से सतर्क रहना चाहिए और अपने आईटी सिस्टम का साइबर सुरक्षा ऑडिट कराना चाहिए। साइबर शाखा के विशेष पुलिस महानिरीक्षक यशस्वी यादव ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनाव के बाद ऑनलाइन हमले बढ़े हैं। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र साइबर ने इन प्रयासों की सूचना जुटाई और उनमें से अधिकतर चीन के चेंगदु इलाके से पाए गए।

हैकिंग के 40300 प्रयास हुए

विशेष पुलिस महानिरीक्षक ने कहा, ‘हमारी सूचना के मुताबिक, पिछले चार-पांच दिनों में भारतीय साइबर स्पेस के संसाधनों पर साइबर हमले के, कम से कम 40,300 प्रयास हुए। हमले का उद्देश्य सेवा देने से मनाही, इंटरनेट प्रोटोकॉल को हाईजैक करना और जाल में फंसाना शामिल है।’

 

20 लाख भारतीय ई-मेल आईडी होने का संदेह
महाराष्ट्र के साइबर अधिकारियों के मुताबिक, इन हैकर्स के पास करीब 20 लाख भारतीय ई-मेल आईडी होने का संदेह है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार के अधिकारियों के साथ ही निजी इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को इन हमलों से सुरक्षा करनी चाहिए, जहां फर्जी ई-मेल या संदेश भेजकर गोपनीय पासवर्ड या पास कोड हासिल करने का प्रयास किया जाता है। इस तरह का एक फर्जी ई-मेल ‘एनकोव2019एटगोवडॉटइन’ पाया गया है, जो दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, चेन्नई और अहमदाबाद के निवासियों को नि:शुल्क कोविड-19 जांच के लिए फर्जी सूचना के तौर पर भेजा जाता है।

Related posts

लॉकडाउनः भारत में जून से 18000 टन कोरोना कचरा पैदा हुआ

Girish Chandra

अफगानिस्तान में बम विस्फोट से छह नागरिकों की मौत

samacharprahari

राष्ट्रीय राजधानी और आर्थिक राजधानी के बीच की दूरी घटेगीः गडकरी

Vinay

12 से 18 साल तक के बच्चों की कोरोना वैक्सीन Corbevax को DCGI ने दी फाइनल मंजूरी

Prem Chand

Twitter को टक्कर देगा एलन मस्क का X.com!

Prem Chand

पांच साल में ‘माननीयों’ की रेल यात्रा पर 62 करोड़ रुपये का खर्च

samacharprahari