ताज़ा खबर
OtherPoliticsTop 10ताज़ा खबरभारतराज्य

रिकवरी एजेंटों ने निजी बस को किया अगवा

आगरा। उत्तर प्रदेश में अपराध का ग्राफ लगातार चढ़ता जा रहा है। पुलिस प्रशासन की लाख कोशिशों के बाद भी अपराधियों पर लगाम नहीं लग पा रही है। आगरा में बुधवार सुबह फाइनेंस कंपनी के रिकवरी एजेंटों ने 34 यात्रियों से भरी एक निजी बस को अगवा कर लिया।

पुलिस ने बताया कि घटना मलपुरा थानाक्षेत्र की है। बस हरियाणा के गुड़गांव से मध्य प्रदेश के पन्ना जा रही थी। अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि बस के ड्राइवर, स्टॉफ और यात्री सुरक्षित हैं। अवस्थी ने एक बयान में कहा कि फाइनेंस कंपनी ने अवैध रूप से बस को कब्जे में ले लिया। ड्राइवर, स्टॉफ और यात्री सुरक्षित हैं। बस मालिक का मंगलवार को ही देहांत हो गया था।

बयान में हालांकि यह नहीं बताया गया कि बस कहां है। आगरा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार ने बताया कि बस से उतरे तीन लोगों ने पुलिस को सूचित किया कि फाइनेंस कंपनी के प्रतिनिधि बस पर सवार हुए थे। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच से पता चला है कि बस को एक फाइनेंस कंपनी के लोग अपने साथ ले गये। इसी फाइनेंस कंपनी ने बस को फाइनेंस किया था। मामला दर्ज कर लिया गया है और बस की तलाश के लिए पुलिस टीमों का गठन किया गया है।

पुलिस के अनुसार स्लीपर बस का पंजीकरण नंबर : यूपी—75 एम 3516 है लेकिन इसका मालिक मध्य प्रदेश के ग्वालियर का एक निजी ऑपरेटर है। जब यह घटना को अंजाम दिया गया, तब बस पर 34 यात्री सवार थे।

एसएसपी ने बताया कि मंगलवार रात साढे दस बजे बस जब दक्षिण बाईपास पर रायभा टोल प्लाजा के निकट थी, दो एसयूवी में सवार आठ से नौ लोगों ने उसके आगे अपना वाहन लगाकर उसे रोकने का प्रयास किया। इन लोगों ने दावा किया कि वे फाइनेंस कंपनी के लोग हैं। लेकिन बस ड्राइवर ने उनकी बात अनसुनी की और गाडी चलाता रहा।

इसके बाद एसयूवी पर सवार लोगों ने बस का पीछा किया और मलपुरा क्षेत्र में बस के आगे वाहन लगा दिया। वे बस पर चढे और ड्राइवर एवं कंडक्टर को जबरन नीचे उतार दिया। वे लोग बस को लेकर चले गए। बाद में चार अन्य लोग भी बस पर सवार हुए और दिल्ली—कानपुर राजमार्ग की ओर बस दौडा दी। बस के ड्राइवर और कंडक्टर ने कुबेरपुर क्षेत्र में मदद के लिए स्थानीय पुलिस से संपर्क किया।

इस घटना को लेकर विपक्षी दलों ने राज्य की कानून व्यवस्था को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अजय सिंह बिष्ट के नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने ट्वीट किया, ‘तथाकथित फाइनेंस कंपनी द्वारा फिल्मी तरीके से बस का हाईजैक करना यह बताता है कि उत्तर प्रदेश में क़ानून का इक़बाल समाप्त है। इस घटना ने सूबे की खोखली क़ानून – व्यवस्था की कलई खोल के रख दी है। सरकार जी…यही क़ानून – व्यवस्था का योगी मॉडल है क्या?’

समाजवादी पार्टी ने ट्वीट किया, ‘आगरा में 34 यात्रियों से भरी बस का हाईजैक होना अत्यंत दुखद एवं दहला देने वाली घटना है। यूपी में कानून व्यवस्था की इतनी विकट स्थिति है कि बड़ी से बड़ी वारदात कहीं भी अंजाम दी जा रही है। सभी यात्रियों की सलामती की प्रार्थना! हरकत में आए सरकार, सुनिश्चित हो सभी की सकुशल वापसी।’

 

Related posts

सीबीआई ने बिल्डर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की

Girish Chandra

शिवसेना स्थापना दिवस पर खूब बरसे उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे

Prem Chand

जारी रहेगा ‘सवर्ण गरीबों’ को 10 प्रतिशत का आरक्षण

samacharprahari

हज यात्रा के लिए कोविड रिपोर्ट अनिवार्य होगीः नकवी

Prem Chand

सैनिकों की सैलरी से भी गए पीएम केअर्स में पैसे, सुरक्षा बलों ने दिए 203 करोड़

samacharprahari

तेल निकाल रहे हैं पेट्रोल, डीजल और सरकार!

samacharprahari