ताज़ा खबर
OtherPoliticsTop 10ताज़ा खबरदुनियाभारतराज्य

महाराष्ट्र में मिशन बिगिन अगेन के तहत मेट्रो लोकल होंगी शुरू

महाराष्ट्र में मिशन बिगिन अगेन के तहत मेट्रो व मॉल्स होंगे शुरू
सरकार ने कई गतिविधियों को चलाने की छूट दी

मुंबई। महाराष्ट्र सरकार ने महाराष्ट्र में मिशन बिगिन अगेन के तहत कई महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। इसके तहत नए दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं। अनलॉक 5 में मेट्रो सेवाओं को 15 अक्टूबर से शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही सरकारी और निजी लाइब्रेरी को भी 15 अक्टूबर से शुरू किया जा सकेगा। हालांकि नए आदेश में भी मंदिरों के खोले जाने की अनुमित नहीं दी गई है।

बता दें कि महा विकास आघाड़ी के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार और विपक्षी दलों के बीच मंदिर खोलने को लेकर लगातार पत्राचार जारी है। विपक्ष मंदिर मुद्दे को लेकर सरकार को घेरने की कोशिश में लगा हुआ है। महाराष्ट्र में कोविड -19 मामलों की संख्या देश में सबसे अधिक है। इसे देखते हुए राज्य सरकार अनलॉकिंग पैटर्न का पालन सख्ती से कर रही है।

महाराष्ट्र सरकार ने बुधवार को अनलॉक 5 को लेकर नया नोटिफिकेशन जारी किया है। इसमें कहा गया है कि गुरुवार से मेट्रो ट्रेनों को चरणबद्ध तरीके से शुरू किया जाएगा। राज्य में बिजनेस-टू-बिजनेस एक्जीबिशन की भी अनुमति दी गई है। आवश्यक कोविड-19 सावधानियों के साथ, गवर्नमेंट और पब्लिक लाइब्रेरियों को भी खोला जा रहा है। दुकानें और बाजार सुबह 9 से रात 9 बजे तक खुले रहेंगे।

इससे पहले, महाराष्ट्र सरकार ने 5 अक्टूबर से राज्य में रेस्तरां और बार को खोलने की अनुमति दी थी। हालांकि राज्य में स्कूल, कॉलेज, धार्मिक स्थान, सिनेमा हॉल, स्विमिंग पूल अभी नहीं खुलेंगे।

हालांकि ‘मिशन बिगिन अगेन’ के तहत प्रदेश के स्कूलों में 15 अक्टूबर से 50 फीसदी शिक्षकों की उपस्थिति की अनुमति दी गई है। लेकिन मौजूदा हालातों को देखते हुए 31 अक्टूबर तक सभी स्कूलों में नियमित कक्षाओं को बंद रखने का फैसला किया गया है। इसी फैसले के अंतर्गत 15 अक्टूबर से मेट्रो के संचालन समेत अन्य फैसले हुए हैं।

किन-किन चीजों की अनुमति
1. मेट्रो ट्रेनें, मोनो ट्रेन

2. इंटर-स्टेट ट्रेनें, रोड ट्रैवल, डोमेस्टिक फ्लाइट

3. रेस्तरां, बार

4. स्थानीय बाजार

5. मुंबई महानगर में उद्योग

6. पुस्तकालय

7. बिजनेस-टू-बिजनेस एक्जीबिशन

किन-किन चीजों की अनुमति नहीं
1. धार्मिक स्थल

2. जिम

3. स्विमिंग पूल

4. स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक संस्थान

5. सिनेमा हॉल

6. किसी राजनीतिक कार्यक्रम की इजाजत नहीं

महाराष्ट्र में मंदिर खोलने पर संग्राम
बता दें कि महाराष्ट्र में कोरोना की वजह से बंद पड़े मंदिरों व धर्मस्‍थलों को खुलवाने को लेकर राज्यपाल और महाराष्ट्र सरकार आमने-सामने हैं। पिछले दिनों राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखी थी। चिट्ठी के जरिए राज्यपाल ने उद्धव ठाकरे पर तंज कसा था कि आप अचनाक सेक्युलर कैसे हो गए? जबकि आप इस शब्द से नफरत करते थे।
राज्‍यपाल की चिट्ठी का सीएम उद्धव ठाकरे ने भी जवाब देते हुए कहा था, ‘मुझे हिन्दुत्व पर आपसे सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। उद्धव ठाकरे ने ये भी कहा कि धार्मिक स्थलों को खोलने को लेकर सरकार विचार कर रही है, लेकिन जैसे एकदम से लॉकडाउन करना गलत कदम था, वैसे एकदम से सब अनलॉक करना भी गलत होगा। उधर, सैकड़ों बीजेपी कार्यकर्ता मंगलवार को मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर, शिरडी के साईं बाबा समेत कई धार्मिक स्थलों के बाहर पहुंचे और मंदिर खुलवाने के लिए सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया था।

Related posts

जम्मू कश्मीर से अर्धसैनिक बलों की 100 कंपनियों को वापस बुलाएगी सरकार

samacharprahari

मथुरा स्थित कृष्ण कूप की पूजा के अधिकार के लिए हाई कोर्ट में अर्जी

Prem Chand

टकराव से बचने के लिए विस अध्यक्ष चुनाव टाला

samacharprahari

सात कंपनियों की नेटवर्थ कई देशों की जीडीपी से अधिक है

samacharprahari

मौद्रिक नीति प्रणाली में बदलाव से बॉन्ड मार्केट पर होगा असरः राजन

samacharprahari

स्वदेशी विमानवाहक विक्रांत का समुद्र में परीक्षण शुरू

samacharprahari