ताज़ा खबर
Otherबिज़नेस

भारतीय कृषि निर्यात में 15 फीसदी की वृद्धि, अमेरिका में मांग तेज : टीपीसीआई

भारतीय कृषि निर्यात में 15 फीसदी की वृद्धि, भारत-अमेरिका के बीच ट्रेड संबंध मजबूत : टीपीसीआई

नई दिल्ली। अमेरिका में भारतीय कृषि उत्पाद की बढ़ती मांग के कारण निर्यात क्षेत्र को राहत मिली है। जुलाई 2020 के दौरान अमेरिका में भारतीय कृषि निर्यात पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 15 प्रतिशत तक बढ़ गया, जबकि इस अवधि में भारत में अमेरिकी कृषि निर्यात 56.07 प्रतिशत तक घटा है। यूएसटीआर कार्यालय के आंकड़ों से यह खुलासा हुआ है। इसकी पुष्टि यूएसडीए गैट्स सिस्टम से भी हुई है।

अमेरिका में कृषि निर्यात में वृद्धि पर ट्रेड प्रमोशन काउंसिल ऑफ इंडिया (टीपीसीआई) के चेयरमैन मोहित सिंगला ने कहा कि जुलाई महीने के दौरान अमेरिका की ओर से भारतीय चावल, मसालों और सब्जियों के लिए मांग में वृद्धि दर्ज की गई है। इसके साथ ही खाद्य तेल, सोयाबीन भोजन, केक और चिकित्सा उपयोग के लिए जरूरी अर्क की मांग भी बढ़ी है।

टीपीसीआई के अध्यक्ष ने कहा, “भारत-अमेरिकी व्यापार संबंध हाल के दिनों में बेहतर हुए हैं। घरेलू स्तर पर सहायक पारिस्थितिकी तंत्र (सपोर्टिव डोमेस्टिक इकोसिस्टम) को नीतिगत रूप से सुदृढ किया गया। इससे वैश्विक स्तर पर भारतीय कृषि और खाद्य उत्पादों की। मांग में वृद्धि होगी।”

विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के नवीनतम अनुमान के अनुसार कोविड -19 संकटों से अब बाहर निकलने के संकेत दिखाई दे रहे हैं। जून और जुलाई में निर्यात में वृद्धि के कारण चालू वित्त वर्ष के लिए व्यापारिक गतिविधियों में तेजी आई है, जिससे ट्रेड अनुमानों के बेहतर प्रदर्शन की उम्मीदें बढ़ गई है। लॉकडाउन को चरणबद्ध तरीके से कम किया गया और आर्थिक गतिविधियों में तेजी आई है।

डेटा से पता चलता है कि जुलाई 2020 के दौरान अमेरिका में शीर्ष भारतीय कृषि निर्यात में तेजी आई है। अमेरिका को चावल (34 मिलियन डॉलर), मसाले (24 मिलियन डॉलर), सब्जी के सैप और चिकित्सा में उपयोगी अर्क (24 मिलियन डॉलर), आवश्यक तेलों (23 मिलियन डॉलर) और सोयाबीन भोजन व केक (21 मिलियन डॉलर) का निर्यात किया गया, जबकि जुलाई 2020 के दौरान भारत में अमेरिका से बादाम (50 मिलियन डॉलर), कपास (6.8 मिलियन डॉलर), गंधयुक्त पदार्थ (2.4 मिलियन डॉलर), अखरोट (1.9 मिलियन डॉलर) और ताजे फल (1.7 मिलियन डॉलर) का आयात किया गया।

जुलाई में, भारत ने संयुक्त राज्य अमेरिका को 33,500 टन चावल बेचा, जो जून में 25,100 टन था। पिछले कई वर्षों तक भारत ने आमतौर पर संयुक्त राज्य अमेरिका को हर महीने 13,000 से 17,000 टन चावल ही भेजा था। भारत से अधिकांश रूप से बासमती चावल का निर्यात किया गया है, जिसे लंबे अनाज के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए बासमती चावल के लदान में जून के बाद से तेजी आई है।

 

Related posts

सरकार ने दिए संकेत- एलएसी को लेकर बंद कमरे में हो सकती है विपक्षी नेताओं के साथ बातचीत

samacharprahari

अखिलेश बोले- ‘भाजपा और बसपा के गठबंधन का पर्दाफाश करने के लिए किया था निर्दलीय प्रत्याशी का समर्थन’

Prem Chand

PM ने इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिए भ्रष्टाचार को वैध किया : कांग्रेस

Prem Chand

मोदी सरकार की आत्ममुग्धता से बिगड़े हालातः राजन

samacharprahari

दुबई में दो विमान टकराए, कोई हताहत नहीं

Prem Chand

रायगढ़ में 103 गांवों पर मंडराया भूस्खलन का खतरा

Prem Chand