ताज़ा खबर
Top 10दुनिया

केरल-कर्नाटक में मौजूद हैं आईएस आतंकी, हमला करने की बना रहे योजना : संयुक्त राष्ट्र

न्यूयॉर्क। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि भारत के केरल और कर्नाटक प्रांत में इस्लामिक स्टेट (आईएस) के सहयोगी संगठन हिंद विलयाह के 150 से 200 आतंकी मौजूद हैं। ये हमलावर भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और म्यांमार के रहने वाले हैं। संयुक्त राष्ट्र की हालिया रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अलकायदा भारतीय उपमहाद्वीप में हमला करने की योजना बना रहा है।

बता दें कि आईएसआईएस, अलकायदा और उससे संबंधित व्यक्तियों और संस्थाओं से संबंधित एक रिपोर्ट हाल ही में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ओर से जारी की गई है। संयुक्त राष्ट्र में आतंकी संगठनों से संबंधित विश्लेषणात्मक सहायता और प्रतिबंधों की निगरानी टीम की 26वीं रिपोर्ट गुरुवार को जारी की गई इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अलकायदा इन द इंडियन सबकांटिनेंट (एक्यूआईएस) यानी भारतीय उपमहाद्वीप में अलकायदा नाम का यह आतंकी संगठन नीमरूज, हेलमंद और कंधार से तालिबान की छत्रछाया में संचालित होता है।

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि आईएसआईएस से संबंधित भारतीय हिंद विलयाह के पास अपने 180 से 200 सदस्य हैं। एक्यूआईएस के वर्तमान नेता ओसामा महमूद है, जिसने असीम उमर की जगह ली है। संगठन अपने पूर्व नेता की मौत का बदला लेने के लिए इस क्षेत्र में जवाबी कार्रवाई की योजना बना रहा है।

बता दें पिछले साल मई में इस्लामिक स्टेट (जिसे आईएसआईएस, आईएसआईएल और दाहेश के तौर पर भी जाना जाता है) के आतंकी समूह ने भारत के लिए अलग से एक नई शाखा स्थापित करने का दावा किया था। खूंखार अंतरराष्ट्रीय आतंकी संगठन ने अपनी अमाक समाचार एजेंसी के माध्यम से कहा था कि नई शाखा का अरबी नाम हिंद विलयाह (भारत प्रांत) है। हालांकि उस समय जम्मू-कश्मीर के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने आईएस के इस दावे को खारिज कर दिया था। कश्मीर में आईएस द्वारा किए गए हमलों को इसकी तथाकथित खोरासन शाखा से जोड़कर देखा जाता था। खोरासन शाखा की स्थापना वर्ष 2015 में की गई थी।

Related posts

चालू वित्त वर्ष में जीडीपी 8.5 प्रतिशत रहने का अनुमान: इक्रा

samacharprahari

कश्मीर सीमा पर आतंकी हमले में 5 जवान शहीद

Amit Kumar

सीबीआई ने रिश्वत मामले में तीन अधिकारियों को किया गिरफ्तार

Prem Chand

पीआईएफ जियो प्लेटफॉर्म्स में करेगा 11367 करोड़ का निवेश

samacharprahari

सिंगापुर से बैंकॉक जाने की तैयारी में गोटबाया राजपक्षे

Girish Chandra

अग्निपथ पर उबल रहा नेपाल

samacharprahari