ताज़ा खबर
OtherTop 10ताज़ा खबरबिज़नेसभारत

कर्ज मुक्त कंपनियों में शुमार हुई रिलायंस इंडस्ट्रीजः मुकेश अंबानी

कोरोना लॉकडाउन में 1.69 लाख करोड़ रुपए का निवेश जुटाया
मुंबई। रिलायंस इडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी ने शुक्रवार को कहा कि पिछले दो महीनों में राइट्स इश्यू और वैश्विक निवेशकों से रिकॉर्ड 1.69 लाख करोड़ रुपये जुटाने के बाद कंपनी का शुद्ध ऋण शून्य हो गया है। पिछले 58 दिनों में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने वैश्विक प्रौद्योगिकी निवेशकों से 1.15 लाख करोड़ रुपये जुटाए हैं। कंपनी ने यह राशि अपने जियो प्लेटफॉर्म्स लिमिटेड में हिस्सेदारी बेचकर जुटायी है, जबकि 53,124.20 करोड़ रुपये राइट्स इश्यू जारी करते हुए जुटाए गए हैं।

रिलायंस ने 1.75 लाख करोड़ फंड जुटाए

कंपनी ने एक बयान में कहा कि इतने कम समय में विश्व स्तर पर इतनी पूंजी जुटाना एक रिकॉर्ड है। भारतीय कॉर्पोरेट इतिहास के लिए भी यह अभूतपूर्व है। पेट्रो-रिटेल क्षेत्र में बीपी के साथ हुए समझौते को भी इसमें जोड़ लें तो रिलायंस ने कुल 1,75,000 करोड़ रुपये से अधिक का फंड हासिल कर लिया है। 31 मार्च 2020 को कंपनी का नेट कर्ज 1,61,035 करोड़ रुपए था। इस इन्वेस्टमेंट और राइट्स इश्यू के बाद कंपनी पूरी तरह से ऋण मुक्त हो गई है।

जियो प्लेटफॉर्म्स में 24.70 फीसदी इक्विटी निवेशकों के पास
बता दें कि जियो प्लेटफॉर्म्स में निवेश का सिलसिला पिछले 58 दिनों से जारी है। निवेशक जियो प्लेटफॉर्म्स में 24.70 फीसदी इक्विटी के लिए 1,15,693.95 लाख करोड़ का निवेश कर चुके हैं। गुरुवार को पीआईएफ ने 2.32 फीसदी इक्विटी के लिए जियो प्लेटफॉर्म्स में 11,367 करोड़ रुपए के निवेश की घोषणा की थी। इसके अलावा आरआईएल राइट्स इश्यू 1.59 गुना सब्सक्राइब किया गया था। यह पिछले दस वर्षों में एक गैर-वित्तीय संस्था द्वारा दुनिया का सबसे बड़ा राइट्स इश्यू था। पिछले साल ईंधन विपणन कारोबार में 49 प्रतिशत हिस्सेदारी ब्रिटेन की बीपी को 7,000 करोड़ रुपये में बेचने और हाल में हासिल निवेश से कंपनी ने कुल 1.75 लाख करोड़ रुपये की राशि जुटायी है।

11 विदेशी निवेशकों ने जताया भरोसा

देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो, जियो प्लेटफॉर्म्स का ही हिस्सा है। जियो में अब तक फेसबुक 43,573.62 करोड़ (9.99%), सिल्वर लेक 5,655.75 करोड़ (1.15%), विस्टा इक्विटी पार्टनर्स 11,367.00 करोड़ (2.32%), जनरल एटलांटिक 6,598.38 करोड़ (1.34%), केकेआर 11,367.00 करोड़ (2.32%), मुबाडला 9,093.60 करोड़ (1.85%), सिल्वरलेक पार्टनर्स 4,546.80 करोड़ (0.93%), एडीआईए 5,683.50 करोड़ (1.16%), टीपीजी 4,546.80 करोड़ (0.93%), एल कैटेरटन 1,894.50 करोड़ (0.39%) और पीआईएफ 11,367.00 करोड़ (2.32%) जैसे वैश्विक प्रौद्योगिकी निवेशकों ने 22 अप्रैल 2020 से अब तक 1,15,693.95 करोड़ रुपये यानी 24.70 फीसदी शेयर्स खरीदे हैं।

Related posts

मोगादिशु हवाई अड्डे के बाहर भीषण विस्फोट, आठ लोगों की मौत

Prem Chand

राहुल गांधी का बीजेपी पर हमला, बोले – बुलडोजर छोड़ो, बिजली लाओ

Prem Chand

केंद्र व आयकर विभाग कुछ लोगों से प्यार करता है: शरद पवार

samacharprahari

सरकार बदलने पर ही जनता का दुख-दर्द दूर होगा : अखिलेश

Prem Chand

शिवसेना नेता यशवंत जाधव की IT ने 41 संपत्तियां की जब्त

Prem Chand

केयर्न ने 176 करोड़ की भारतीय संपत्ति सीज की

Prem Chand