ताज़ा खबर
OtherTop 10ऑटोटेकताज़ा खबरबिज़नेसभारतराज्य

इंडिया रेटिंग्स ने कहा- जीडीपी 7.8 प्रतिशत रहेगी

रेटिंग एजेंसी ने जीडीपी में गिरावट के अनुमान को घटाया

मुंबई। इंडिया रेटिंग्स ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में अर्थव्यवस्था में उम्मीद से बेहतर सुधार को देखते हुए चालू वित्त वर्ष 2020-21 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में गिरावट के अपने अनुमान को घटाकर 7.8 प्रतिशत कर दिया है। इससे पहले रेटिंग एजेंसी ने चालू वित्त वर्ष में अर्थव्यवस्था में 11.8 प्रतिशत गिरावट का अनुमान लगाया था। हालांकि, एजेंसी ने सितंबर तिमाही में अर्थव्यवस्था में आए सुधार के टिकाऊ होने पर सवाल भी उठाया है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही अप्रैल-जून में कोविड-19 महामारी की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था में 23.9 प्रतिशत की जबर्दस्त गिरावट आई थी, जबकि दूसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन उम्मीद से बेहतर रहा और जीडीपी में गिरावट घटकर 7.5 प्रतिशत रह गई। चालू वित्त वर्ष के कमजोर तुलनात्मक आधार प्रभाव की वजह से 2021-22 में भारतीय अर्थव्यवस्था 9.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करेगी।

इंडिया रेटिंग एजेंसी ने कहा कि दूसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था में सुधार की प्रमुख वजह त्योहारी और दबी मांग थी। महामारी से जुड़ी चुनौतियों की वजह से जो अड़चनें आ रही हैं वे बड़े टीकाकरण कार्यक्रम से पहले दूर नहीं होंगी। हालांकि, आर्थिक गतिविधियों ने अब इसके साथ रहना सीख लिया है और वे तेजी से नई वास्तविकता के साथ सामंजस्य बैठा रही हैं। चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) में अर्थव्यवस्था में 0.8 प्रतिशत की गिरावट रहने का अनुमान है, जबकि जनवरी-मार्च की चौथी तिमाही में अर्थव्यवस्था 0.3 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करेगी। इससे पहले अर्थव्यवस्था में 2021-22 की जुलाई-सितंबर तिमाही में ही सकारात्मक वृद्धि दर्ज करने का अनुमान लगाया गया था।

Related posts

दोहरे शतक से चूके डि कॉक, हसन महमूद बने दीवार

samacharprahari

नहीं लौटेगा बैलेट पेपर, EVM से ही होगा मतदान, सुप्रीम कोर्ट में VVPAT से संबंधित सभी याचिकाएं खारिज

samacharprahari

बनाता था तलाकशुदा महिलाओं को शिकार, अब अरेस्ट

samacharprahari

नवी मुंबई में सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, नाबालिग लड़की है सरगना

samacharprahari

रूस में फंसे 20 भारतीय, रिहाई की कोशिश जारी : विदेश मंत्रालय

Prem Chand

‘हिमालय के योगी के कहने पर फैसले लेती थीं NSE की पूर्व एमडी’

Amit Kumar