ताज़ा खबर
OtherTop 10ताज़ा खबरबिज़नेसभारतराज्य

रिलायंस ने केडी-डी6 क्षेत्र की दो-तिहाई नई गैस खुद खरीदी

मुंबई। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने नए नियमों के तहत नीलामी के लिए पेश केजी-डी6 ब्लॉक की अपनी नई गैस में से दो-तिहाई की खरीद खुद ही की है। सूत्रों ने बताया कि रिलायंस इंडस्ट्रीज ने करीब 67 प्रतिशत गैस खरीदी है। शेष गैस सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी गेल, रॉयल डच शेल और अन्य ने खरीदी है। रिलायंस ओ2सी नई इकाई है, जिसके तहत कंपनी की रिफाइनरी और पेट्रोरसायन परिसंपत्तियां आती हैं। ई-बोली की प्रक्रिया वेब-आधारित इलेक्ट्रॉनिक बोली मंच के जरिये क्रिसिल रिस्क एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर सोल्यूशंकस लि. (क्रिस) ने की। यह एक स्वतंत्र एजेंसी है, जो हाइड्रोकॉर्बन महानिदेशालय (डीजीएच) के पैनल में है। क्रिस ने ई-प्रोक्यूरमेंट टेक्नोलॉजीज लि. (ईपीटीएल) के साथ भागीदारी में ई-बोली मंच तैयार किया है।
बता दें कि रिलायंस और उसकी भागीदारी ब्रिटेन की बीपी पीएलसी ने शुक्रवार को केजी-डी6 ब्लॉक के आर-श्रृंखला क्षेत्र से 75 लाख मानक घनमीटर प्रतिदिन (7.5 लाख एमएमएससीएमडी) की बढ़ी गैस का नीलामी की। इसे देश में पहली बार गैस मार्कर से बेंचमार्क किया गया है। यह नीलामी सरकार द्वारा अधिसूचित उदारीकृत मूल्य खोज नियमों के तहत की गई। इन नियमों के तहत गैस उत्पादन से संबद्ध इकाइयां भी प्राकृतिक गैस की खरीद के लिए बोली लगा सकती हैं।
सूत्रों ने बताया कि रिलायंस इंडस्ट्रीज की इकाई रिलायंस ओ2सी ने शुक्रवार को साढ़े सात घंटे तक चली नीलामी में 48 लाख घनमीटर गैस की खरीद की है। सार्वजनिक क्षेत्र की गैस कंपनी गेल (इंडिया) लि. ने 8.5 लाख घनमीटर और शेल ने 7 लाख घनमीटर गैस की खरीद की। वहीं, अडाणी टोटल गैस ने एक लाख घनमीटर, हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन ने दो लाख घनमीटर और टॉरेस्ट गैस ने 20,000 घनमीटर गैस की खरीद की है। अन्य खरीदारों में आईआरएम एनर्जी, पीआईएल और आईजीएस शामिल है।

Related posts

रुपया नहीं गिर रहा, डॉलर हो रहा है मजबूत: सीतारमण

samacharprahari

एक दिन में साढ़े 28 हजार कोरोना के नये मामले, अब तक साढ़े आठ लाख मामले दर्ज

Prem Chand

पाक ने पुंछ में सीमावर्ती इलाकों पर की गोलाबारी

samacharprahari

शिल्पा के बंगले पर पहुंची पुलिस, कुंद्रा की हिरासत बढ़ी

samacharprahari

रियल एस्टेट क्षेत्र में काले धन का इस्तेमाल घटाः सचिव

Vinay

आईपीसी 498-A में बिना जांच गिरफ्तारी की तो खैर नहीं…

samacharprahari