ताज़ा खबर
OtherPoliticsTop 10ताज़ा खबरबिज़नेसभारतराज्य

राज्यों का कर्ज बढ़कर 68 लाख करोड़ का अनुमान : रिपोर्ट

 

मुंबई। कोविड-19 महामारी और लॉकडाउन के चलते राजस्व संग्रह कमी का सामना कर रहे राज्यों की उधारी चालू वित्त वर्ष में रिकॉर्ड 36 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 68 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचने की संभावना है। इस दौरान राज्यों की आय में 15 प्रतिशत की गिरावट आई है। राज्यों का आर्थिक प्रदर्शन भी करीब दो-चार प्रतिशत गिर सकता है और सकल राजकोषीय घाटा बढ़कर 8.7 प्रतिशत पहुंच सकता है।

क्रिसिल की मंगलवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में राज्यों की आय में 15 प्रतिशत की गिरावट आई है, जबकि उनकी उधारी 36 प्रतिशत बढ़कर 68 लाख करोड़ रुपये होने का अनुमान है, जो दशक का उच्च स्तर है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि इससे राज्यों का आर्थिक प्रदर्शन करीब दो-चार प्रतिशत गिर सकता है। राज्यों के राजस्व में गिरावट की मुख्य वजह माल एवं सेवाकर (जीएसटी) संग्रह में कमी होना और लॉकडाउन के बाद खर्च में वृद्धि होना है।

क्रिसिल की यह रिपोर्ट देश के शीर्ष 18 राज्यों के वित्तीय हालात पर आधारित है। इसमें दिल्ली और गोवा भी शामिल हैं। ये सभी राज्य मिलकर सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) का करीब 90 प्रतिशत हिस्सा रखते हैं। रिपोर्ट में राज्यों का राजस्व घाटा चालू वित्त वर्ष में छह प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया है, जो पिछले साल के 1.5 प्रतिशत से कम है। वहीं राज्यों का सकल राजकोषीय घाटा बढ़कर 8.7 प्रतिशत पहुंचने का अनुमान है, जो पिछले साल 2019-20 में 5.3 प्रतिशत था। इसके अलावा उनका कर्ज पिछले साल के 58 लाख करोड़ रुपये से बढ़कर 68 लाख करोड़ रुपये हो जाने का अनुमान भी रपट में जताया गया है।

Related posts

मंदिर पूजन नहीं, लॉकडाउन से हो रहे आर्थिक नुकसान पर ध्‍यान देना जरुरी : शरद पवार

Prem Chand

केरल और बंगाल में एनआईए की रेड, अलकायदा से जुड़े 9 संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार

samacharprahari

हरियाणा के नए सीएम नायब सैनी को छह महीने में ही देना पड़ेगा इस्तीफा!

samacharprahari

बिग बुल राकेश झुनझुनवाला का निधन

samacharprahari

किसान ने कहा- ‘मुझे नक्सली बनना है’, सीएम से मांगी इजाजत

samacharprahari

सरकार ने परमबीर को छह जुलाई तक गिरफ्तारी से दी राहत

Prem Chand