ताज़ा खबर
OtherTop 10टेकताज़ा खबरभारतराज्य

लॉकडाउनः भारत में जून से 18000 टन कोरोना कचरा पैदा हुआ

महाराष्ट्र में सर्वाधिक 3,587 टन बॉयोवेस्ट कचरा जमा हुआ

नई दिल्ली। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के अनुसार, कोविड-19 के कारण लगाए गए लॉकडाउन के दौरान देश भर में बॉयोवेस्ट कचरों का संग्रहण बढ़ा है। महाराष्ट्र में पिछले चार महीनों में 3,587 टन बॉयोवेस्ट कचरा निकला है, जबकि देश में 18,006 टन बॉयो मेडिकल कचरे जमा हुए हैं।

लॉकडाउन में जहां वायु एवं जल प्रदूषण में कमी आई है, तो वहीं बॉयो मेडिकल कचरे का अंबार लगने लगा है। भारत में पिछले चार महीनों में ही 18,006 टन कोविड-19 बॉयो मेडिकल कचरा पैदा हुआ है। महाराष्ट्र का योगदान सबसे ज्यादा रहा है। राज्य में इस दौरान 3,587 टन बॉयो वेस्ट निकला। यह जानकारी केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों से मिली है। सिर्फ सितंबर महीने में ही देश भर में करीब 5,500 टन कोविड-19 कचरा पैदा हुआ, जो किसी एक महीने में सबसे ज्यादा है।

बता दें कि कोविड-19 कचरे में पीपीई किट, मास्क, जूता कवर, दस्ताने, सुई, सीरिंज जैसी चीजें शामिल होती हैं। राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से मिले आंकड़ों के अनुसार जून से सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 18,006 टन कोरोना बॉयो मेडिकल कचरा पैदा हुआ है। इनका निःस्तारण 198 इकाइयों के जरिए किया जा रहा है।

सीपीसीबी के आंकड़ों के अनुसार, महाराष्ट्र में जून से चार महीनों में 3,587 टन कचरा पैदा हुआ है, जबकि तमिलनाडु में 1737 टन, गुजरात में 1638 टन, केरल में 1516 टन, उत्तर प्रदेश में 1416 टन, दिल्ली में 1400 टन, कर्नाटक में 1380 टन और पश्चिम बंगाल में 1000 टन कचरा पैदा हुआ है।

इसी तरह, जुलाई में देश भर से 4,253 टन कोविड-19 कचरा पैदा हुआ है। महाराष्ट्र (1,180 टन), कर्नाटक (540 टन) और तमिलनाडु (401 टन) कचरे के साथ शीर्ष तीन स्थानों पर काबिज हैं। इसी तरह, अगस्त में भी लगभग 5,240 टन कोविड-19 कचरा उत्पन्न हुआ, जिसमें 1359 टन महाराष्ट्र में निकला जबकि केरल और कर्नाटक में 588-588 टन कचरा पैदा हुआ।

सीआरपीबी आंकड़ों के अनुसार, सितंबर में करीब 5,490 टन कचरा पैदा हुआ है। इस दौरान सबसे ज्यादा 622 टन कचरा गुजरात में पैदा हुआ। इसके बाद तमिलनाडु में 543 टन, महाराष्ट्र में 524 टन, उत्तर प्रदेश में 507 टन, केरल में 494 टन और दिल्ली में 382 टन कचरा पैदा हुआ है।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र देश में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य रहा है। देश में कोरोन संक्रमण के मामले में देश में सबसे ज्यादा मरीजों वाला राज्य रहा है। राज्य में अब तक कोरोना के 15 लाख से ज्यादा मामले आ चुके हैं, जिनमें साढ़े 12 लाख से ज्यादा ठीक भी हो चुके हैं। महाराष्ट्र में 2 लाख 21,637 एक्टिव केस हैं, जबकि 40,349 लोगों ने जान गंवाई है।

Related posts

बिकने की तैयारी में कर्ज में डूबी एक और एयरलाइंस

samacharprahari

श्रीकृष्ण जन्मभूमि-शाही ईदगाह मामले में अदालत का फैसला सुरक्षित

Prem Chand

एयर-होस्टेस ने पर्ची भेजी- सर, कमोड पर बैठ जाइए, हम लैंड करने वाले हैं

samacharprahari

बिना सारथी के 2024 का संग्राम जीतने दिल्ली में मिले विपक्षी नेता

samacharprahari

राम की प्राण प्रतिष्ठा के बीच सरकार ने गन्ना मूल्य में बढ़ाए 20 रुपये, नाखुश किसान करेंगे आंदोलन !

Prem Chand

सीएम पद को लेकर देवेंद्र फडणवीस का बड़ा बयान, ‘बीजेपी बड़ी पार्टी है और…’

samacharprahari