ताज़ा खबर
Otherबिज़नेस

फ्रैंकलिन टेम्प्लटन की छह एमएफ बंद, कोर्ट ने लगाई रोक

न्यायालय ने सेबी को ई-वोटिंग के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त करने को कहा

मुंबई। उच्चतम न्यायालय ने बुधवार को बाजार नियामक प्राधिकरण सेबी से कहा कि फ्रैंकलिन टेम्प्लटन की छह म्यूचुअल फंड योजनाओं को बंद करने के बारे में दिसंबर के अंतिम सप्ताह में होने वाली ई-वोटिंग प्रक्रिया की निगरानी के लिए एक पर्यवेक्षक नियुक्त किया जाये।
शीर्ष अदालत ने कहा कि उसका तीन दिसंबर का वह आदेश अभी लागू रहेगा, जिसमें उसने निर्देशित किया था कि फिलहाल यूनिट धारकों को उनके यूनिटों की धनराशि के भुगतान पर लगी रोक फिलहाल बनी रहेगी। न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने इस निर्देश के साथ ही इस मामले को जनवरी के तीसरे सप्ताह के लिये सूचीबद्ध कर दिया है। शीर्ष अदालत कर्नाटक उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ फ्रैंकलिन टेम्पल्टन की अपील पर सुनवाई कर रही थी।
बता दें कि फ्रैंकलिन टेम्पल्टन म्यूचुअल फंड ने बांड बाजार में तरलता के अभाव और बाजार के दबाव का हवाला देते हुए 23 अप्रैल को इन छह योजनाओं को बंद कर दिया था। उच्च न्यायालय ने निवेशकों की पूर्व सहमति के बगैर ही इन योजनाओं को बंद करने से फ्रैंकलिन टेम्पल्टन को रोक दिया था। सेबी की ओर से सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने पीठ से कहा कि इस मामले में सेबी द्वारा दायर अपील सूचीबद्ध नहीं हुई है। फ्रैंकलिन इंडिया लो ड्यूरेशन फंड, फ्रैंकलिन इंडिया डायनेमिक एक्यूरल फंड, फ्रैंकलिन इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड, फ्रैंकलिन इंडिया शॉर्ट टर्म इनकम प्लान, फ्रैंकलिन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट बॉन्ड फंड और फ्रैंकलिन इंडिया इनकम अपॉर्चुनिटीज फंड शामिल हैं।

Related posts

लद्दाख सीमा पर हिंसक झड़प, 20 जवान शहीद

samacharprahari

मिनी बस-कंटेनर की टक्कर, 12 लोगों की मौत, 23 घायल

samacharprahari

मालगाड़ियों के लदान से पश्चिम रेलवे ने कमाए 3081करोड़

samacharprahari

उत्तर प्रदेश से रोजाना छह लड़कियां होती हैं लापता

samacharprahari

उत्तर प्रदेश में अपराध की बुलेट ट्रेन दौड़ रही है : अखिलेश

samacharprahari

मणिपुर में फिर शुरू हुई हिंसा, पांच आम नागरिकों और तीन सुरक्षाकर्मियों की मौत

samacharprahari