ताज़ा खबर
OtherPoliticsTop 10ताज़ा खबरभारतराज्य

एनजीओ और ट्रस्ट पर एनआईए के छापे

आतंकी गतिविधियों के लिये धन मुहैया कराने का खुलासा

श्रीनगर। राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने जम्मू कश्मीर के अंदर और बाहर संचालित हो रहे पंजीकृत एवं गैर पंजीकृत गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) की जांच का दायरा बढ़ाते हुए कई एनजीओ व अन्य संगठनों पर छापे मारे। दरअसल, इन संगठनों का इस्तेमाल कथित तौर पर आतंकवादी गतिविधियों के लिए धन मुहैया कराने वाले माध्यम के रूप में किया जा रहा था। जांच एजेंसी ने अलगाववादी संगठनों को धन मुहैया करने वाले माध्यमों को बंद करने के बाद यह कार्रवाई की है। एनजीओ और ट्रस्ट के खिलाफ विश्वसनीय सूचना मिलने के बाद 8 अक्टूबर को भारतीय दंड संहिता और गैर कानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत एक मामला दर्ज किया गया था।

एनआईए की विभिन्न टीमों ने एक महानिरीक्षक और एक उप महानिरीक्षक की निगरानी में लगातार दूसरे दिन नौ स्थानों पर तलाशी ली। राष्ट्रीय राजधानी में भी एक जगह पर छेपे मारे गए। दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष जफरूल इस्लाम खान के नेतृत्व वाले एनजीओ ‘चैरिटी एलायंस’पर छापा मारा गया। अधिकारियों ने बताया कि जिन नौ परिसरों में छापेमारी की गई, उनमें अनंतनाग में संचालित शबीर अहमद बाबा के नेतृत्व वाला ह्यूमन वेलफेयर फाउंडेशन, जम्मू-कश्मीर में प्रतिबंधित जमात-ए-इस्लामिया की अनुषंगी फलाह-ए-आम ट्रस्ट, जेके यतीम फांउडेशन, सॉल्वेशन मूवमेंट और जेके वॉइस ऑफ विक्टिम्स शामिल हैं। इनमें से कुछ संगठनों का नेतृत्व हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के जाफर अकबर सहित कट्टरपंथी अलगाववादी कर रहे हैं।

अधिकारियों ने बताया कि इन गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) और ट्रस्ट के खिलाफ विश्वसनीय सूचना मिलने के बाद 8 अक्टूबर को भारतीय दंड संहिता और गैर कानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत एक मामला दर्ज किया गया था। उन्होंने बताया कि सूचना मिली थी कि ये संगठन तथाकथित दान और कारोबारी योगदान के माध्यम से देश और विदेश से चंदा एकत्र करते हैं और उसका इस्तेमाल जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों के वित्तपोषण में करते हैं।

एनआईए ने बुधवार को इसी मामले में कश्मीर और बेंगलुरु के कुछ ठिकानों की तलाशी ली थी और दावा किया था कि इस दौरान उसने दोष साबित करने वाले कई दस्तावेज जब्त किए हैं। श्रीनगर में जिन लोगों के परिसरों में छापेमारी की गई थी, उनमें खुर्रम परवेज (जम्मू कश्मीर कोअलिशन ऑफ सिविल सोसाइटी के समन्वयक), उनके सहयोगी परवेज अहमद बुखारी, परवेज अहमद मत्ता और बेंगलुरु में रहने वाली उनकी सहयोगी स्वाति शेषाद्रि तथा परवीना अहंगर, ‘एसोसिएशन ऑफ पैरेंट्स ऑफ डिसैपियर्ड पर्सन्स’ (एपीडीपी) शामिल हैं। एनजीओ अथरौट और जी के ट्रस्ट के कार्यालयों में भी छापे मारे गये थे।

Related posts

एक अंडा करी और 5 अप्पम का बिल देख भड़के विधायक जी, कर दी शिकायत

Prem Chand

केंद्र को कोसना बंद करे आघाड़ी सरकार, विकास के काम करेः चंद्रकांत पाटिल

samacharprahari

जियो इम्पैक्ट: 4 साल में 40 करोड़ ग्राहक जुड़े

samacharprahari

गिरता रुपया खोल रहा सरकार के दावों की पोल

samacharprahari

बांस में चादर बांधी, पत्नी के शव को रखा…फिर श्मशान के लिए लेकर निकला पति

samacharprahari

पीएनबी ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 मनाया

samacharprahari