ताज़ा खबर
OtherTop 10ताज़ा खबरभारतराज्य

राकेश अस्थाना को बनाया गया बीएसएफ का महानिदेशक

नई दिल्ली। सीबीआई के पूर्व स्‍पेशल डायरेक्‍टर रह चुके राकेश अस्थाना को नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के महानिदेशक के अतिरिक्त प्रभार के साथ-साथ सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का महानिदेशक नियुक्त किया गया है। वह वर्तमान में महानिदेशक, नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) के महानिदेशक, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के अतिरिक्त प्रभार के साथ काम कर रहे थे।

बता दें कि अस्थाना का नाम सीबीआई बनाम सीबीआई (CBI vs CBI) मामले से चर्चा में आया था। इससे पहले इसी साल मार्च में सीबीआई बनाम सीबीआई (CBI vs CBI) मामले में कोर्ट ने जांच एजेंसी की उस रिपोर्ट को स्‍वीकार कर लिया है जिसमें उसने सीबीआई के पूर्व स्‍पेशल डायरेक्‍टर राकेश अस्‍थाना और डिप्‍टी पुलिस सुपरिटेंडेंट (डीएसपी) देवेंद्र कुमार को क्लिन चिट दी गई थी।

जांच एजेंसी सीबीआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि अस्‍थाना और देवेंद्र कुमार के खिलाफ उन्‍हें पर्याप्‍त सामग्री नहीं मिली है। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की एक विशेष अदालत के न्‍यायाधीश संजीव अग्रवाल ने कहा था कि राकेश अस्‍थाना और देवेंद्र कुमार के खिलाफ पर्याप्‍त सबूत नहीं मिले हैं। कोर्ट के इस आदेश के साथ ही राकेश अस्‍थाना को बड़ी राहत मिली थी।

सीबीआई बनाम सीबीआई के विवाद के घेरे में आए IPS अधिकारी राकेश अस्थाना झारखंड की राजधानी रांची के रहने वाले हैं। गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी होने के बावजूद बिहार-झारखंड से उनका खासा लगाव रहा है। उन्हें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भरोसेमंद अधिकारी के रूप में जाना जाता है। यही कारण है कि मौका मिलते ही उन्होंने सीबीआई एसपी के तौर पर तब के अविभाजित बिहार में धनबाद की पोस्टिंग स्वीकार कर ली।

राकेश अस्थाना का जन्म 1961 में रांची में हुआ। उनके पिता एच. के. अस्थाना नेतरहाट स्कूल में फिजिक्स पढ़ाते थे। अस्थाना की स्कूली शिक्षा भी नेतरहाट से हुई है। हायर सेकेंडरी रांची के सेंट जेवियर कॉलेज से पूरी करने के बाद कॉलेज की पढ़ाई के लिए वह वर्ष 1978 में आगरा चले गए थे।

Related posts

राहत उपायों से डिजिटल भारत का लक्ष्य हासिल होगाः मुकेश अंबानी

samacharprahari

फरार आरोपी अरेस्ट, ढाई करोड़ की ड्रग जब्त

samacharprahari

डिजिटल हुनर सिखाएगा गूगल

samacharprahari

करंसी से खेलना करंट से खेलने जैसा तुगलकी शौक: योगेन्द्र यादव।

samacharprahari

देश में ताकतवर और कमजोर के लिए अलग-अलग कानून व्यवस्थाएं नहीं हो सकतीं

Amit Kumar

नेटाफिम ने इक्विटी से जुटाए 50 मिलियन डॉलर

Prem Chand