ताज़ा खबर
OtherPoliticsTop 10ताज़ा खबरभारतराज्य

जेलों में 70 फीसदी सजायाफ्ता कैदी एससी,एसटी व ओबीसी तबके से हैंः एनसीआरबी

सरकारी आंकड़े से खुलासा, 20 हजार महिला कैदी भी शामिल

मुंबई। सरकार ने एक लिखित सवाल में बताया कि देश की विभिन्न जेलों में बंद 4,78,600 कैदियों में से 3,15,409 कैदी अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग श्रेणियों के हैं। जेलों में सजा काट रहे कुल कैदियों में 65.90 फीसदी कैदी एससी, एटी व ओबीसी समाज के हैं। गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी ने राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ये आंकड़े राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो द्वारा, 31 दिसंबर 2019 तक अद्यतन किए गए आंकड़ों के संकलन पर आधारित हैं।
गृह राज्य मंत्री ने बताया कि देश की जेलों में बंद 4,78,600 कैदियों में से 3,15,409 कैदी अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग श्रेणियों के हैं। शेष 1,26,393 कैदी अन्य समूहों से हैं। उन्होंने बताया कि आंकड़ों के अनुसार, देश की जेलों में बंद 1,62,800 कैदी (34.01 फीसदी) अन्य पिछड़ा वर्ग के हैं, जबकि 99,273 कैदी (20.74 फीसदी) अनुसूचित जाति से हैं। इसके अलावा, 53 हजार 336 कैदी (11.14 फीसदी) अनुसूचित जनजाति के लोग सजा काट रहे हैं। उन्होंने बताया कि कुल 4,78,600 कैदियों में से 4,58,687 कैदी (95.83 फीसदी) पुरुष और 19,913 कैदी (4.16 फीसदी) महिलाएं हैं।

Related posts

पति से कहासुनी के बाद महिला ने तीन बच्चों संग खाया जहर, चारों की मौत

Prem Chand

ये जो खबरें हैं ना…. 5

samacharprahari

कालेधन को सफेद करने के लिए हुई थी नोटबंदी: राहुल

samacharprahari

एचडीआईएल समूह के 233 करोड़ रुपये के शेयर कुर्क

Prem Chand

राज्य में सभी चुनाव साथ मिलकर लड़ेंगे : मविआ

samacharprahari

एयर-होस्टेस ने पर्ची भेजी- सर, कमोड पर बैठ जाइए, हम लैंड करने वाले हैं

samacharprahari