ताज़ा खबर
OtherPoliticsTop 10ताज़ा खबरबिज़नेसभारतराज्य

पांच साल में इंडियन करेंसी की वैल्यू 10 रुपये घटी

 

मुंबई। महंगा क्रूड, मंदी का डर और डॉलर की मजबूती से भारतीय रुपया लगातार कमजोर हो रहा है। पांच साल पहले यानी 13 अगस्त 2018 को रुपया डॉलर के मुकाबले 69.62 के स्तर पर था, जो आज 79.45 प्रति डॉलर के ऐतिहासिक निचले स्भातर पर पहुंच गया है।

केंद्र की भाजपा सरकार और आरबीआई की तमाम कोशिशों के बावजूद डॉलर के मुकाबले रुपया लगातार फिसल रहा है। सोमवार को अमेरिकी मुद्रा की तुलना में भारतीय रुपया 19 पैसे टूटकर 79.45 प्रति डॉलर के भाव पर बंद हुआ। यह रुपया के लिए अबतक का सबसे निचला स्तर है।

कारोबारियों के अनुसार, साल 2022 की तीसरी तिमाही तक डॉलर के मुकाबले रुपया 82 के स्तर तक पहुंच जाएगा। इस साल 21 फरवरी 2022 को रुपया 74.49 प्रति डॉलर के स्तर पर था। पिछले पांच महीने में भारतीय रुपया डॉलर के मुकाबले 5.1 रुपया और चार साल में लगभग 10 रुपया तक कमजोर हुआ है।

गिरते रुपये को लेकर कभी कांग्रेसी सरकार को कोसने वाले भाजपा के नेता खामोश हैं। भाजपानीत केंद्र सरकार दावा करती है कि देश की अर्थव्यवस्था लगातार मजबूत हो रही है, लेकिन गिरता रुपया उनकी पोल खोल दे रहा है। पिछले पांच साल में ही भारतीय करेंसी की वैल्यू 10 रुपये घट चुकी है।

    • ऐसे कमजोर हो रहा है रुपया

        • 11 जुलाई 2022                         79.59

        • 23 जून 2022                            78.32

        • 16 जून 2022                            77.94

        • 18 सितंबर 2019                       71.23

        • 13 अगस्त 2018                         69.62

Related posts

आतंकी केस में एनआईए का पुणे में छापा

Prem Chand

परब को ईडी का समन, राजनीति गरमाई

samacharprahari

हीरो के चेयरमैन पर ईडी का बड़ा ऐक्शन, जब्त की 25 करोड़ की संपत्ति

samacharprahari

यस बैंक मामला: सीबीआई ने दिल्ली-एनसीआर में कई स्थानों पर छापे मारे

samacharprahari

नोटबंदी पर केंद्र की सफाई, कहा- रणनीति का हिस्सा था नोटबंदी का फैसला 

samacharprahari

सुशांत केस मामला: भाजपा, संदीप सिंह और ड्रग माफिया के बीच का रिश्ता क्या कहलाता है: कांग्रेस

samacharprahari